UTTAR PRADESHLucknow

गन्ना किसानों को किया 1.75 लाख करोड़ से अधिक का रिकॉर्ड भुगतान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के 50 लाख से अधिक गन्ना की खेती करने वाले किसानों (Sugarcane Farmers) के परिवारों में गन्ने की मिठास बढ़ेगी। इसके लिए योगी सरकार-02 (Yogi 2.0) में अगले पांच साल के लिए मुकम्मल रणनीति तैयार की है। समग्रता में बनी इस रणनीति में मिलों का आधुनिकीकरण, डिस्टलरी प्लांट, सल्फर मुक्त चीनी का उत्पादन से लेकर गन्ने के उपज से लेकर रकबा और चीनी का परता बढ़ाने पर चरणबद्ध तरीके से काम होने हैं।

पांच साल में 480 करोड़ की लागत से होगा 14 मिलों का आधुनिकीकरण

प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश सहकारी चीनी मिल्स संघ लिमिटेड की 14 चीनी मिलों की चरणबद्ध तरीके से अपग्रेडेशन की कार्ययोजना तैयार की है। इसमें कुल करीब 480 करोड़ रुपये की लागत आएगी। पहले चरण 2022-23 में अलीगढ़ की साथा, सुल्तानपुर और महराजगंज-नोतनवा का आधुनिकीकरण होना है। इन तीनों मिलों के आधुनिकीकरण में करीब 95 करोड़ की लागत का पूर्वानुमान है।

दूसरे चरण (2023-24) में कासगंज की बिलासपुर, बरेली की सीमाखेड़ा और पीलीभीत की पूरनपुर चीनी मिल के आधुनिकीकरण में सरकार 105 करोड़ रुपये खर्च करेगी। तीसरे चरण 2024-25 में मऊ की घोषी, सीतापुर की महमूदाबाद, पीलीभीत की बीसलपुर और बदायूं की चीनी मिलों का आधुनिकीकरण होना है।

एके शर्मा ने बकायेदार उपभोक्ताओ से ओटीएस योजना का लाभ लेने की अपील

इसी तरह पांच साल की कार्ययोजना के अंतिम चरण में फर्रुखाबाद की कायमगंज, मुजफ्फरनगर की मोरना, शाहजहांपुर की तिलहर और बागपत की चीनी मिलों का अपग्रेडेशन होना है। बाद की दो चरणों में जिन आठ मिलों का आधुनिकीकरण होना है, उसमें सरकार 140-140 करोड़ रुपये खर्च करेगी।

तीन मिलों में स्थापित होंगी डिस्टलरी की इकाइयां

इसी तरह चरणबद्ध तरीके से उत्तर प्रदेश राज्य चीनी निगम लिमिटेड की तीन मिलों गोरखपुर की पिपराइच, मेरठ की मोहिउद्दीनपुर में डिस्टलरी और बाराबंकी की बुढ़वल चीनी मिल में कोजन प्लांट, सल्फरलेस प्लांट और डिस्टलरी की स्थापना होनी है। इन तीनों में प्रदेश सरकार और केंद्र का अंशदान क्रमशः 30 प्रतिशत अंशदान और 70 प्रतिशत ऋण होगा। छाता मथुरा में 550 करोड़ रुपये की लागत से मल्टीफ़ीड डिस्टलरी शुगर काम्प्लेक्स की स्थापना भी होगी।

सीएम धामी ने पर्यटन मंत्री जी.किशन रेड्डी से की भेंट

विभागीय अधिकारी ने बताया कि मिलों के आधुनिकीकरण के अलावा सरकार ने पांच साल में प्रति हेक्टेयर गन्ने की उत्पादकता 81.5 टन से बढ़ाकर 84 टन करने का लक्ष्य रखा है। इसी अवधि में चीनी का पड़ता 11.46 फीसद से बढ़कर 11.56 फीसद करने का भी लक्ष्य रखा है। गन्ना एवं इसके सह उत्पादों के जरिए शुगर टूरिज़्म को बढ़ावा, गणना किसान संस्थान में शुगर म्यूजियम, संघ एवं निगम की मिलों द्वारा उत्पादित चीनी मिलों के लिए विक्रय केंद्रों की स्थापना और हर साल गुड़ महोत्सव का आयोजन अन्य कार्यक्रम हैं।

गन्ना किसानों (sugarcane farmers) को 1.75 लाख करोड़ से अधिक का रिकॉर्ड भुगतान

मालूम हो कि किसानों (sugarcane farmers) की खुशहाली मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपने पहले कार्यकाल से ही सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। ये तभी संभव है, जब प्रदेश के करीब 50 लाख गन्ना किसान खुशहाल हों। इसके मद्देनजर योगी सरकार के पहले कार्यकाल में अभूतपूर्व कार्य हुए। मसलन गन्ना किसानों के बकाए का रिकॉर्ड भुगतान हुआ। भुगतान के आंकड़ों पर गौर करें तो प्रदेश सरकार ने 2017 से अब तक 1. 75 लाख करोड़ से अधिक का भुगतान कर नया रिकॉर्ड कायम किया है।

Related Articles

Back to top button