LIFESTYLE

बढ़ती गर्मी में लू के प्रकोप से बचने के लिए अपनाएं ये तरीके

नई दिल्ली।  स्कूल में वापस जाना और दोस्तों से मिलना बच्चों के लिए अच्छी बात है, लेकिन बच्चों के लिए रिकॉर्ड तोड़ गर्मी (Heat) नया खतरा पैदा कर रही है। जैसे-जैसे तापमान (Temperature) हर गुजरते दिन के साथ बढ़ रहा है, वैसे-वैसे कुछ मिनटों के लिए भी बाहर कदम रखना मुश्किल हो रहा है।

माना जा रहा है कि मिड अप्रैल से मिड जून के बीच स्थिति और खराब होने वाली है, जब नॉर्थ वेस्ट, सेंट्रल और नॉर्थ ईस्ट इंडिया के मैदानी इलाकों में तापमान अपने चरम पर होता है। इस दौरान बच्चों के हीटवेव से पीड़ित होने की संभावना ज्यादा हो जाती है।

WHO की स्थापना का भी प्रतीक है ‘वर्ल्ड हेल्थ डे’

बच्चों को तपती गर्मी में हीटवेव से बचाने के तरीके-

हाइड्रेशन- गर्मी (Heat) के कारण आपके बच्चे जल्दी डिहाइड्रेट हो जाते हैं। इसके कारण उन्हें चक्कर आ सकता है। गर्मी (Heat) के मौसम में बच्चों को ज्यादा से ज्यादा पानी पीने के लिए कहें, ताकि बच्चे दिन भर एक्टिव रहें। पानी का ज्यादा सेवन लू के प्रभाव को भी कम करता है। यदि बच्चा ज्यादा पानी नहीं पीता तो सुनिश्चित करें कि वो रोजाना 2 से 3 लीटर पानी जरूर पीए। इसके अलावा आप उन्हें नारियल पानी, नींबू पानी, बेल या खस का शरबत भी पीने के लिए दे सकते हैं।

बाहरी गतिविधियों को सीमित करें –आपके बच्चे बाहर खेलने या घूमने पर जोर दे सकते हैं। इसलिए दोपहर के समय उनकी बाहरी गतिविधियों को सीमित करने का प्रयास करना चाहिए। उन्हें घर पर खेलने के लिए कहें या बाहर मौसम ठंडा होने तक इंतजार करने के लिए कहें। गर्मी (Heat) के मौसम में सुबह 10 से शाम 5 बजे के बीच धूप सबसे तेज होती है। शाम 5 बजे के बाद मौसम थोड़ा बेहतर हो जाता है और लू से जुड़ा जोखिम भी कम होता है। अगर आपके बच्चे बाहर निकलने की जिद करते हैं, तो उन्हें शाम को ही जाने दें।

सनस्क्रीन लगाएं- सनस्क्रीन केवल बड़ों ही नहीं, बल्कि छोटे बच्चों के लिए भी उतना ही जरूरी है। बड़ों की तुलना में बच्चों की त्वचा ज्यादा नाजुक होती है। गर्मी (Heat) की चपेट में आने से सनबर्न और मुंहासे होने का खतरा भी होता है। इसलिए जब भी आपका बच्चा दोपहर में घर से बाहर जाता है, तो उसकी बॉडी के सभी ओपन हिस्सों पर अच्छी तरह से सनस्क्रीन लगाएं। कड़ी धूप से बचाने के लिए आप उन्हें कैप और छाता भी दे सकते हैं।

‘वर्ल्ड हेल्थ डे’ पर दीया मिर्जा फैंस से कही ये बात

बच्चों को हल्के और पतले कपड़े पहनाएं- इस मौसम में बच्चों को हल्के रंग के कॉटन के कपड़े पहनाएं। अन्य कपड़ों की तुलना में कॉटन का कपड़ा पसीने को बेहतर तरीके से सोखता है। हल्के रंग के कॉटन के कपड़ों में गर्मी कम लगती है और बॉडी को ठंडा रहने में मदद भी मिलती है। इसके अलावा कॉटन के कपड़े स्किन रैशेज और खुजली को भी रोकते हैं।

हेल्दी डाइट- मौसम को ध्यान में रखते हुए बच्चे को रोजाना ताजा और हल्का खाना खिलाएं। फैटी, बासी और तला हुआ खाने से दस्त और उल्टी हो सकती है। बच्चों के भोजन में मौसमी, ताजे फल और हरी सब्जियां शामिल करें। मौसमी उत्पाद उन्हें हाइड्रेटेड रख सकते हैं और उनकी इम्यूनिटी भी बढ़ा सकते हैं।

जाने किन कारणों की वजह से नहीं आती रातों को नींद

हीटस्ट्रोक के लक्षणों की तलाश करें- तमाम सावधानियों के बाद भी आप लू की संभावना से इनकार नहीं कर सकते। इसलिए लू के लक्षणों को जानना जरूरी है, ताकि आप किसी भी परेशानी से बचने के लिए सही समय पर एक्शन ले सकें। लू के कॉमन लक्षणों में बहुत ज्यादा पसीना आना, पीलापन, मांसपेशियों में ऐंठन, थकान, दुर्बलता, चक्कर आना, सिरदर्द, उलटी शामिल हैं।

Related Articles

Back to top button